Thursday, December 09, 2004

Tanhaa(Sad)

बहुत  तनहा  सा  लगता  है  मुझको  ...
अक्सर  बहुत  याद  आती  है  तेरी ..
चली  जो  गयी  हो  मुझे  छोर  कर ...
तो  होटो   पे  अक्सर  बात  आती  है  तेरी
...........................................
जब  साथ  थे  तब  लड़ते  रहें
छोटी  बातो  में  अक्सर  जगाड़ते  रहें ...
आब  ना  बाते  है  ना  मुलाकाते ..
बस  रह  गयी  है  तनहा  गमगीन  राते 
.................................................
हसना  मुस्कुराना  फिर  रूठ  जाना ..
याद  आता  है  मुजको  तेरा  सताना ...
मीठे  वो  पल  थे  सिर्फ  था  मुस्कुराना ..
आब  रह  गया  है  बस  रोने  का  बहाना
.................................................
एक  बार  तो  आ  जाओ  
कितनी  बातें  बतानी  है .
कह  ना  सका  साथ  रह  कर  तुम्हारे ..
छुपी  मेरे  दिल  में  कुछ  अजब  दिल  की   कहानी  है ..

No comments:

Post a Comment

कुछ कहिये

Random thoughts ...

Random thoughts ... क्यू गुमसुम सी रहती हो , हवाओं की तरह , लहराओ न कभी । उङ जाती हो पलक क्षपकते ही , साथ आओ न कभी ।। कुछ लम्हों की...