Skip to main content

Posts

Showing posts from April, 2011

क्रांति का बिगुल !!

ये आंधी जो है चल पड़ी उसे जगा , तू दम दिखा बुझा सा जो दिल में है उसे जगा, तू दम दिखा || ये ज़ुल्म न सहेंगे हम बहुत सितम वो कर चुके गिरे जो लाल रक्त हैं उसे जला , तू दम दिखा || आज ही वो वक़्त है बदलना हमको तख़्त है कदम मिला कदम मिला तू दम दिखा , तू दम दिखा _______________________
अन्ना तू चिंगारी है उन काले चेहरों पे भरी है | भागो ए गद्दारों गद्दी से आ गए क्रांतिकारी हैं || ________________________