Wednesday, April 06, 2011

क्रांति का बिगुल !!

ये आंधी जो है चल पड़ी
उसे जगा , तू दम दिखा
बुझा सा जो दिल में है
उसे जगा, तू दम दिखा ||
ये ज़ुल्म न सहेंगे हम
बहुत सितम वो कर चुके
गिरे जो लाल रक्त हैं
उसे जला , तू दम दिखा ||
आज ही वो वक़्त है
बदलना हमको तख़्त है
कदम मिला कदम मिला
तू दम दिखा , तू दम दिखा
_______________________

अन्ना तू चिंगारी है
उन काले चेहरों पे भरी है |
भागो ए गद्दारों गद्दी से
आ गए क्रांतिकारी हैं ||
________________________

एक नज़र इधर भी

कभी देख लो एक नज़र इधर भी की रौशनी का इंतज़ार इधर भी हैं मुस्कुरा के कह दो  बातें चार की कोई बेक़रार इधर भी हैं || समय  बदलता रहता हैं हर...