Wednesday, April 06, 2011

क्रांति का बिगुल !!

ये आंधी जो है चल पड़ी
उसे जगा , तू दम दिखा
बुझा सा जो दिल में है
उसे जगा, तू दम दिखा ||
ये ज़ुल्म न सहेंगे हम
बहुत सितम वो कर चुके
गिरे जो लाल रक्त हैं
उसे जला , तू दम दिखा ||
आज ही वो वक़्त है
बदलना हमको तख़्त है
कदम मिला कदम मिला
तू दम दिखा , तू दम दिखा
_______________________

अन्ना तू चिंगारी है
उन काले चेहरों पे भरी है |
भागो ए गद्दारों गद्दी से
आ गए क्रांतिकारी हैं ||
________________________

3 comments:

  1. बढ़िया आवाहन गीत ...

    'अन्ना जी चिंगारी हैं --सत्ता बल पर भारी हैं '

    ReplyDelete
  2. truly brilliant..Rahul jI
    keep writing..all the best

    ReplyDelete
  3. सार्थक एवं प्रशंसनीय रचना - बधाई

    ReplyDelete

कुछ कहिये

Random thoughts ...

Random thoughts ... क्यू गुमसुम सी रहती हो , हवाओं की तरह , लहराओ न कभी । उङ जाती हो पलक क्षपकते ही , साथ आओ न कभी ।। कुछ लम्हों की...