Thursday, February 24, 2011

इश्क की इम्तिहा

किसी के इश्क की इम्तिहा न ले कोई
किसी के सब्र की इंतिहा न हो जाए
प्यार मर न जाए प्यासा यु ही
और आंशुओ के सैलाब में
ज़िन्दगी न बह जाये …
________________________
कब्र जब भी खुदे हैं प्यार के
आसमा से , खुदा की आह निकली है
प्यार अकेला सही , पर बेबस नहीं
कही खुदा की निशाने पे ,
बेदर्दो के जिगर न आ जाये
____________________________
बहुत नाजुक है उनके लवो पे लगी दुआए
इतनी जोर से न हिलाओ की ये ज़मी पे आ जाए
उन्ही की दुआ से झिलमिला रहे हैं चमन तेरे
कही उनकी दुआओं में कोई कमी न आ जाए
____________________________
दिल के निशानों को
क्यों वक़्त के पानी से धोने चले हो
कही निशानों के साथ तेरी
रूह की तस्वीर न मिट जाए …
चन खुशियों के लिए खुद को बदलो न यु
की बे-रूह ये खुशिया , शायद , कुछ काम न आये

_______________

10 comments:

  1. दिल के निशानों को

    क्यों वक्त के पानी से धोने चले हो

    कहीं निशानों के साथ तेरी

    रूह की तस्वीर न मिट जाये '



    सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  2. बहुत नाजुक है उनके लवो पे लगी दुआए
    इतनी जोर से न हिलाओ की ये ज़मी पे आ जाए
    उन्ही की दुआ से झिलमिला रहे हैं चमन तेरे
    कही उनकी दुआओं में कोई कमी न आ जाए

    Bahut badhiya...shabaash.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर अभिब्यक्ति| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  4. आसानी से नहीं मिटते ये निशान....शुभकामनायें राहुल !

    ReplyDelete
  5. आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  6. aap ko bhi holi ki kamnaye...hope holi was gr8 for u all

    ReplyDelete
  7. Ritu Singh9:06 AM

    awesome composition Rahul...the last stanza is simply perfect!

    ReplyDelete

कुछ कहिये

Random thoughts ...

Random thoughts ... क्यू गुमसुम सी रहती हो , हवाओं की तरह , लहराओ न कभी । उङ जाती हो पलक क्षपकते ही , साथ आओ न कभी ।। कुछ लम्हों की...