Thursday, February 24, 2011

इश्क की इम्तिहा

किसी के इश्क की इम्तिहा न ले कोई
किसी के सब्र की इंतिहा न हो जाए
प्यार मर न जाए प्यासा यु ही
और आंशुओ के सैलाब में
ज़िन्दगी न बह जाये …
________________________
कब्र जब भी खुदे हैं प्यार के
आसमा से , खुदा की आह निकली है
प्यार अकेला सही , पर बेबस नहीं
कही खुदा की निशाने पे ,
बेदर्दो के जिगर न आ जाये
____________________________
बहुत नाजुक है उनके लवो पे लगी दुआए
इतनी जोर से न हिलाओ की ये ज़मी पे आ जाए
उन्ही की दुआ से झिलमिला रहे हैं चमन तेरे
कही उनकी दुआओं में कोई कमी न आ जाए
____________________________
दिल के निशानों को
क्यों वक़्त के पानी से धोने चले हो
कही निशानों के साथ तेरी
रूह की तस्वीर न मिट जाए …
चन खुशियों के लिए खुद को बदलो न यु
की बे-रूह ये खुशिया , शायद , कुछ काम न आये

_______________

10 comments:

  1. दिल के निशानों को

    क्यों वक्त के पानी से धोने चले हो

    कहीं निशानों के साथ तेरी

    रूह की तस्वीर न मिट जाये '



    सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  2. बहुत नाजुक है उनके लवो पे लगी दुआए
    इतनी जोर से न हिलाओ की ये ज़मी पे आ जाए
    उन्ही की दुआ से झिलमिला रहे हैं चमन तेरे
    कही उनकी दुआओं में कोई कमी न आ जाए

    Bahut badhiya...shabaash.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर अभिब्यक्ति| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  4. आसानी से नहीं मिटते ये निशान....शुभकामनायें राहुल !

    ReplyDelete
  5. आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  6. aap ko bhi holi ki kamnaye...hope holi was gr8 for u all

    ReplyDelete
  7. Ritu Singh9:06 AM

    awesome composition Rahul...the last stanza is simply perfect!

    ReplyDelete

कुछ कहिये

एक नज़र इधर भी

कभी देख लो एक नज़र इधर भी की रौशनी का इंतज़ार इधर भी हैं मुस्कुरा के कह दो  बातें चार की कोई बेक़रार इधर भी हैं || समय  बदलता रहता हैं हर...