Wednesday, September 28, 2005

Sawaal

Ye zo zindagi hai
Kabhi Thakti kyu nahi
Kabhi to chalti hai itni tez
Kabhi sarkti bhi nahi.
............
Kal aur aaj ke bich
Itne fasle bana leti hai ye
ek khawab tut te hai to
Kai auur khawab saja leti hai ye.
..
Har chehre ka nakab chipa rakhti hai ye
Phir har chere me zindagi dikti kyu nahi
Mil jaate hai hazaar chize bazaar me
Par do pal ki khusiya bikti kyu nahi.
..
Sawaal itne hai iske pass
par jawab zindagi kyu likhti bhi nahi
Uljhaye rakhi hai sabko appne jaal me
Auur khud kabhi jaal me bichti kyu nahi.
....

Friday, September 09, 2005

Badnaseeb(sad)

महीनो  हो  गए  हैं   तुम्हे  गए
पर  तुम्हारे दर्द  अभी  भी  करीब   हैं
आंसुओ  पर ही    कटते हैं  रात  दिन अब  तक
इश्क  में इस   कदर  रोये. ..कितने बदनसीब   हैं
.....
हवाओं   से  प्यास  गयी नहीं   है  दूर
मेरे  आशुओ  को  ही  पीती  रहती हैं  अब   तक
मौसम  बदल  गए  हैं,  कितने  फिर भी
मंजर  यहाँ  के  फीकी  रहती  हैं  हर  दम
....
तेरी  तस्वीरे  दिल  से  मिटा   पाए   है  नहीं
भले  ही   कहानिया  दिल  की  बदल  डाली  हैं
कितने  रंग भरते रहते  हैं  फिर  भी
चहरे  का  रंग  आब  तक  खाली  है
....
अभी  भी  दिल  में  तुम  ही  रहती  हो
हा  इनके  दरवाजो  पे  नाम  बदल   गए  हैं
हस्ते  हैं  इन  नादानियो  पे  आपने  हम
की  चोट  खा  कर  दीवाने  कहा ...
सम्हाल  गए  हैं

एक नज़र इधर भी

कभी देख लो एक नज़र इधर भी की रौशनी का इंतज़ार इधर भी हैं मुस्कुरा के कह दो  बातें चार की कोई बेक़रार इधर भी हैं || समय  बदलता रहता हैं हर...