Skip to main content

Posts

Showing posts from July, 2016

ख़ुदा मिला

ढूंढा जहाँ पे वहाँ मिला
कभी मुझमे , कभी उसमे मिला
खुद को ढूंढता रहता था खुद में
पता नहीं क्यूँ , जहाँ  खोजा, ख़ुदा मिला ||