Sunday, February 13, 2011

Ho Jaaye...

2 comments:

  1. सुन्दर पंक्तियाँ ..
    चित्र संयोजन और बढ़िया |

    ReplyDelete
  2. Beautiful as always.
    It is pleasure reading your poems.

    ReplyDelete

कुछ कहिये

एक नज़र इधर भी

कभी देख लो एक नज़र इधर भी की रौशनी का इंतज़ार इधर भी हैं मुस्कुरा के कह दो  बातें चार की कोई बेक़रार इधर भी हैं || समय  बदलता रहता हैं हर...