Monday, June 07, 2010

beating the odds

य़की  हैं  जो  तुम्हे  खुद  पर
ये  आसमा एक  दिन  जरुर  झुक  जायेगा
किस्मत  पैसो  की  गुलाम  नहीं  होती
मेहनतकश  है  तू  अगर ,
बस  खोल  दे  किवाड़ ,
एक  दिन  मिलने  किस्मत
तेरे  दरवाजे  पे  
चल  के  आएगी  ..
News extract from Rediff (07 June 2010)

2 comments:

  1. ...बेहतरीन भाव , प्रसंशनीय !!!

    ReplyDelete
  2. GOOD MOTIVATING LINES!
    SOME SPELLING AND GRAMMAR MISTAKES THOUGH!
    MEHNATKAS(H)
    AND KISMET IS FEMININE....
    SO, AAEG(I)
    KEEP POSTING!!!

    ReplyDelete

कुछ कहिये

एक नज़र इधर भी

कभी देख लो एक नज़र इधर भी की रौशनी का इंतज़ार इधर भी हैं मुस्कुरा के कह दो  बातें चार की कोई बेक़रार इधर भी हैं || समय  बदलता रहता हैं हर...