Friday, February 17, 2012

प्यार का गम

कुछ मिले, तन्हाई के सिवा ,
ऐसी किस्मत नहीं लगती हैं
तक़दीर लिखी है जिसने मेरी ,
शायद उससे अब मेरी , नहीं बनती हैं
...
आधे  अधूरे ख्वाबो के दिल पे  ,
टुकड़े सारे फैले मिलते  हैं
उम्मीदों के चेहरों पे अब तो ,
कपडे भी अब, मैले  दिखते हैं ।।
 .....

खाली खाली ये दुनिया , तुम बिन
कहा अब अच्छी लगती है हमको
रख लो एक कोने में दिल के
नहीं अगर  है , शिकवा तुमको ।।
......

हर बात तुम्हे कह पाना मुश्किल हैं ,
बातो को तुमसे  , छुपाना मुश्किल हैं
हर पल कटते है , सालो के जैसे ,
अब सालो तुम बिन , रह पाना मुश्किल हैं ।।

3 comments:

  1. बेहतर रचना .
    आपकी कलम जब चलती है तो फिर बाँध लेती हैं

    ReplyDelete
  2. तक़दीर लिखी है जिसने मेरी ,
    शायद उससे अब मेरी , नहीं बनती हैं
    बहुत सुंदर प्रस्तुति ....मन पर ठहर गयी ..एक सोच दे गयी ....
    आभार.

    ReplyDelete
  3. हर बात तुम्हे कह पाना मुश्किल हैं ,
    बातो को तुमसे , छुपाना मुश्किल हैं
    हर पल कटते है , सालो के जैसे ,
    अब सालो तुम बिन , रह पाना मुश्किल हैं ।।
    .....प्यार में डूबती उतरती दिल से लिखी दास्ताँ ......

    ReplyDelete

कुछ कहिये

एक नज़र इधर भी

कभी देख लो एक नज़र इधर भी की रौशनी का इंतज़ार इधर भी हैं मुस्कुरा के कह दो  बातें चार की कोई बेक़रार इधर भी हैं || समय  बदलता रहता हैं हर...