Tuesday, June 30, 2009

रात दीवानी...


रात दीवानी...
....................................

होश में आए नही ये रात
नही आए किसी के लव पे, सुबह की बात
ये बात अधूरी रह न जाए
ये रात अधूरी रह न जाए
..

वक्त को भी पिला दो साथिया
ये रात को लम्बी, हो जाने दो
खत्तम न हो अफ़साने दिल के
हर बात को लम्बी हो जाने दो
....
अभी तो शुरुर छाया है थोड़ा
थोड़ा और पिला दो प्यालो में
आया जाए हर बात लवो पे
न रह जाए कुछ आज, खयालो में
...
छा जाए नशा हवाओं में
हर बूंद को यहाँ, पिलाने दो
हाथो से हाथ बहुत मिलते है
दिल से दिल को आज, मिलाने दो
....
..

1 comment:

  1. राहुल जी आपकी ye rachna रचना यहाँ पर पोस्ट की है मैंने
    http://www.sahityapremisangh.com/2011/06/blog-post_18.html

    ReplyDelete

कुछ कहिये

Random thoughts ...

Random thoughts ... क्यू गुमसुम सी रहती हो , हवाओं की तरह , लहराओ न कभी । उङ जाती हो पलक क्षपकते ही , साथ आओ न कभी ।। कुछ लम्हों की...