Thursday, December 23, 2010

गरीबो पे जंग

ये कैसा सरकार ने कदम उठा रखा है  
जंग गरीबो पे खतरनाक चला रखा है
गरीबो को हटाना है, उन्ही के  देश से
प्याज की बढती  कीमत तो एक बहाना है
__________________
दो बूँद पानी की मिल जाए , शुक्र है
हम गरीबो को और, क्या ज्यादा  सुख है
लूटने के लिए सारा देश तो दे रखा है
अब क्या हमारी आत्मा से भी बैर निभाना है
________________
लाल बत्ती के शोर में गुम है इतने
हमारी आँखों से गिरते आँसू की आवाज ,
कहाँ  सुन पाएँगे  
आतंक से जंग तो जीत नहीं पाए
अब क्या हम गरीबो के सीने पे
बन्दूक  चलायेगे ??
_____________________

6 comments:

  1. ... bahut sundar ... prasanshaneey rachanaa !!!

    ReplyDelete
  2. लूटने के लिए सारा देश तो दे रखा है
    अब क्या हमारी आत्मा से भी बैर निभाना है
    ________________


    वो कहेंगे -

    एक देश से मेरा क्या होगा ? मेरी आत्मा को तो तभी चैन आएगा जब मैं देश की एक अरब जनता का खून चूस लूँ।


    .

    ReplyDelete
  3. aam admi ki awaj utha rahi hai aapki janvadi kavita..
    kranti ka avahan...

    ReplyDelete
  4. राहुल जी कविता के भाव बहुत अच्छे हैं आपमे कविता लिखने की सामर्थ्य है लेकिन ये कविता अभी कुछ और काम माँगती है। एक बार दोबारा देखें लाजवाब रचना बन जायेगी। शुभकामनायें , आशीर्वाद।

    ReplyDelete
  5. शुक्रिया , आपके समर्थन का ,

    ReplyDelete

कुछ कहिये

एक नज़र इधर भी

कभी देख लो एक नज़र इधर भी की रौशनी का इंतज़ार इधर भी हैं मुस्कुरा के कह दो  बातें चार की कोई बेक़रार इधर भी हैं || समय  बदलता रहता हैं हर...