Wednesday, April 28, 2010

Ye Shaam (Love)

दे दो अपने हाथो को मेरे हाथो में
साथ चलेंगे हौले से चान्दिनी रातो में
कसम से बहुत सम्हाला था दिल को
पर प्यार सा होने लगा है बातो बातो में
.....
सुनहरी शाम हैं और हलकी हवाए हैं
घने जुल्फों को तेरी आँखों पे ले आये हैं
हटा लो उन जुल्फों को आपने आँखों से
घने बदलो के पीछे , चाँद अभी भी शर्माए हैं
...............
तेरे होटो को छु कर , ये हवा जो मेरे पास आई हैं
शर्म से लाल , अभी भी थोड़ी शरमाई हैं
लगता हैं तुम्हारे सुर्ख होटो की शबनम
 इसी गुस्ताख ने चुरायी हैं
......
आओ बैठो मेरे पास ,
अपनी साँसों को मेरे नजरो से छु लेने तो दे
बेताब हैं ये आँखे , तुम्हे देख कर
तेरे आँखों के इन्हें रूबरू होने तो दो
.............

No comments:

Post a Comment

कुछ कहिये

Random thoughts ...

Random thoughts ... क्यू गुमसुम सी रहती हो , हवाओं की तरह , लहराओ न कभी । उङ जाती हो पलक क्षपकते ही , साथ आओ न कभी ।। कुछ लम्हों की...