Saturday, September 23, 2006

Hawaa

आवारा हवा का, अंजान मुसाफिर हूँ
दिल में न बसू किसी के, ऐसा काफिर hun
छूप जाऊंगा कही, दिख न पाउँगा
सच्चा नही मैं, आशिक हूँ

सासों से एक दिन रूह में, उतर जाऊंगा
धीरे धीरे इतने करीब, चला आऊंगा
जी न सकोगी मेरे बिन फिर एक पल
मैं तुम्हारी ज़िन्दगी की, वजह बन जाऊंगा
….
उड़ा ले जाऊंगा तुम्हे, अपने जहाँ में
मेरे दिशाओ में ही हमेशा, ख़ुद को पाओगी
इतना जूनून है मेरे रफ़्तार में
कित तुम मेरी दीवानी, बन ही जाओगी
….
न बंद कर पाओगी, मुझे मुठियों में
न बाँध पाओगी मुझे, आपने दमन से
बिना दिखे निकल जाऊंगा, दूर तुमसे
न रोक पाओगी, मुझे आपने आँगन में

No comments:

Post a Comment

कुछ कहिये

एक नज़र इधर भी

कभी देख लो एक नज़र इधर भी की रौशनी का इंतज़ार इधर भी हैं मुस्कुरा के कह दो  बातें चार की कोई बेक़रार इधर भी हैं || समय  बदलता रहता हैं हर...