Thursday, September 08, 2011

बेबस नहीं रहना है ||

क्या आँशु बहाने के सिवा
कुछ और करना, नहीं है
सिर्फ धमाको से ही
मरना सही है ||

जब तक डरते रहोगे, डर से
ये खोखले टोपीवाज 
डराते रहेंगे |
आतंक के खिलाफ जंग जारी है
कह कह  के
हर लाश पे वो, मुस्कुराते रहेंगे ||

मन में दबाये बैठे हम
इस गुस्से से क्या कर पाएंगे |
फटेगा तो अन्दर ही फटेगा
उस नहीं तो, इस धमाके से
बेमौत मारे ही जायेंगे ||


डरते नहीं हैं ये टोपीवाज़, आतंक से
अपना कोई आज तक, मरा ही नहीं
कभी उठाई नहीं लाशे, अपने बच्चो की
इसलिए शायद , आँखों का तालाब
कभी भरा ही नहीं ||

कोई नहीं जलाएगा मशाल अपने लिए
हमारे मन का अँधेरा है
खुद ही जलाना होगा |
छोड़ दे विश्वास  , इन टोपिवाजो से 
शायद ,
अब आतंक से लड़ने
हमे , खुद ही को आगे आना होगा ||


जय हिंद !!

5 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. उम्मीद से परिपूर्ण इस रचना के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  3. आपका स्वागत है राहुल जी
    आपकी कविता हमेशा चकित करती है....

    ReplyDelete
  4. "कभी उठाई नहीं लाशे, अपने बच्चो की
    इसलिए शायद, आँखों का तालाब
    कभी भरा ही नहीं ||

    अद्भुत बिम्ब - प्रशंसनीय रचना - बधाई

    ReplyDelete

कुछ कहिये

Random thoughts ...

Random thoughts ... क्यू गुमसुम सी रहती हो , हवाओं की तरह , लहराओ न कभी । उङ जाती हो पलक क्षपकते ही , साथ आओ न कभी ।। कुछ लम्हों की...