Tuesday, March 22, 2005

Dosti...

कभी  अजनबी   थे  
अब  हमनशी  बन  गए  हैं
साथ  चलते  चलते  ज़िन्दगी  के  राहो  पे
एक  दुसरे  की  ज़िन्दगी  बन  गए  हैं
........
छोटी  छोटी  मुलाकाते  
देखो  रंग  इतनी  ला  रही  है
सतरंगी  बन  रही  है  दुनिया
और  ज़िन्दगी  मुस्कुरा  रही  है .
...........
दोस्ती  ने  किया  है  ये  जादू  
की  मुश्किले  आसान  हो  गए  हैं
मिलते  हैं  फूल  ही  राहो  पे
काटे  ना  जाने  कहा  खो  गए  हैं
...
कोई  चाहत  रुकने  की  नहीं  है  
आपसे  कदम  जो  मिल  गए  हैं
दूर  तक  फूलो   के  गाव दिखते  हैं
दोस्ती   के  फूल  जो  अब   खिल  गए  हैं
..............

2 comments:

  1. Anonymous3:13 AM

    Test

    ReplyDelete
  2. rahul this is wonderful, amazing, too good to read pleasant, mind blowing and last but not the least very very very heart touching................................................................

    ReplyDelete

कुछ कहिये

Random thoughts ...

Random thoughts ... क्यू गुमसुम सी रहती हो , हवाओं की तरह , लहराओ न कभी । उङ जाती हो पलक क्षपकते ही , साथ आओ न कभी ।। कुछ लम्हों की...